मेरी सेक्सी जवान माँ


0
5357

मेरे घर में मेरी मम्मी और मेरे बदली हंस रानी और मेरी पत्नी तेना है। मेरे पिताजी की मृत्यु बचपन मुझे हाई गइ जाब मुख्य 7 सोल का था। मेरी बडी हफ़नी रानी की तह शदी हो गइ है और वो अपन ससुराल मेरे रिहत है
मेरे घर मे मुख्य और मेरी माँ और मेरी पत्नी है, वह बेहद है। मेरी पत्नी तेना दिल्ली की है, जस की आप को पीते हैं हू की की दिल्ली की लडकी केसी होती है। हां जी मेरी पत्नी कफी जयादा मॉर्डन है वो 24 घंटे अपनी आप को टिप-टॉप रचित है। तेना सच मुझ भाट सुंदरी है मेरे शुद्ध ख़ान के लड़के और सारे मेरी पत्नी को देख कर भर जाल है।
Usse भी ज्योदय बुरा हाल मेरे पड़ोसी मुझे है। यूँ तक की मात्र ज़रूर ही भी मुझे कहता है। की साली ट्यून पीची जानम मुझे आइसा को काम करता था था जो तेज़ से तेना मिल ग्या। मेरी पत्नी तेना को सब से जिंदा एक मेरा लन्दन चुसाना हैं। वो घर मुझे ख़ून से मेरा लुंड चस्ना शूरु करे दिये है। उस्को मेरी लण्ड चेस्टर हू तौ मम्मी की ख़ान बार रसोई मेरे लिए दिखते हैं
तेना को लुंड चुसने मेह बहाद हैती है अगार वो चहे ते मेरे लण्ड का पानी एक मिनट मुझे ही निकल शकती है। जब मेरे और मेरी माँ ने मुझे केवल मेरे मम्मी की सेक्स रिव्यूशन की मेहनत से बताने में मुझे कुछ भी नही का उपयोग किया। बाल्की वो तह बहोत हर्ष हो गइ कि आप मेरे लन्ड चेस्ट हैं हू अपनी चुट चटवेने के लिए मम्मी मिल ग्या है।
और अब ये हैल है कि मुख्य जानी है, ये शाम को अपना कार्यालय आता हूं। तभी से वो डोनो मुझ निंगा करे हैं है और न जाने के साथ क्या कर्तनी है। पार मुझ से 9 इंच लम्बे और 3 इंच मोटे लन्ड गर्वेश है। क्योकी वो मेरे और मेरी पत्नी डोनो की हर बार ना करे हैं है। रात को वो दोओ मुझे सात्व है और हमारा सेक्स कार्ट हो गया है। तेना के लिए अभी कुछ हद तक जोद दी थी और इतनी हैती है। पार मेरी मम्मी कब हुई नहीं माँ और जब तक मेरा लुंड 3 बार अपना पानी निक्ल्टा।
तब तक मेरी मम्मी का उपयोग आपनी चुट और गांँड मुझे करने के लिए चुटती रहती है। ह्यूम रात को रोज सोट हू एक बड़ा जटा है और हम चुनाई करेब 7 या 8 बजे शूरु दे दिये है। मेरी माँ केवल लण्ड का पानी की पी कर अपनी चीट बनी हुई है। वो तेना को कहती है कि तू भी ऐसी लन्ड का पानी पिया कर वाली बोली न होोगी तु
दोस्तो, अब मुख्य आप को तुम बट्ट हू की मैने अपनी माँ की चुदेई केसे शूरी करी। जीस की मैने बलत था कि मेरे पिता की मौत मेरे बचपन में ही हो गया था। इस्लीमे मम्मी टैब से एक लन्ड के लिए तड़प री थी। हमारे समय में मेरी 17 साल की थी और हमारा मुख्य समय 11 वीं कक्षा में था।
Humare sath meri badi behen रानी भी रहती थी। रात को और मेरे मम्मी माँ, मुझे एक कमरे में बैठिये। और रानी ने मेरे कमरे में मुझे सोती थी। मम्मी शुरू से ही हम डोनो के सथ कफी ओपन थे। क्या हम डोनो से हर तार में बन्ने कर लेती थी वेसे माँ की हम दोनों से सेक्स के लिए मुझे कोई बात नहीं थी।
पार हमें उमड़ मुझे जब मुझ मेरिज की कवच ​​सेक्स की नजरों से बैट मिला। तेह केवल आदमी मुझे सेक्स के नंगे मुझे जानने के लिए और भी जिग्यता बुरा ग्या। पार मुख्य मम्मी से ऐसा बटने के लिए स्काउट था पर एक दिन में मुख्य मम्मी के जिस्म को भी देखा गया था गाया।
माँ को देख कर काफ़ी बार मेरा लण्ड ख़ादा हो गया था। हमारे समय मेरी मम्मी की उमर 30 सल थी पर वो दिखने मुझे 26 या 28 सील की लगीती थी। क्योकी केवल पिताजी की सेना मुझे टो मम्मी को जिंदा चढ़ नहीं मिली। इस्लीये माँ की जवानी क्या कि विन थी। माँ आज भी पुरि जवान लाडकी की तार्ह रहती थी। कफी लॉग मेरी मम्मी को मेरी बहन की बुराई कहने वाली थी। हमारे समय मेरी मम्मी की आकृति 34-32-38 था। ईसा की आकृति के आकार से ही पेट चल रहा है कि मम्मी की गांड कीटनी बडी थी। ये बात तो सच है कि मैत्री की शुद्ध जिस्म मेरे से सब जिंदा काम की ची अनकी गांठ थी। अगार मुझसे कोई पुष्से की मुख्य अपन मम्मी के शुद्ध जिस्म मुझे क्या चज लून। तो मुख्य मम्मी के डोनो मोटे चुटतर लुंगा।
क्योमी मेरी मम्मी के चुटटर जसी कोई चिज पुरी दीन्या मुझे नहीं थी। अब मैने माँ की डो को चट्टेरो को बढी ध्यान से देखेगाग गया। जब वो चुल्ती थी ते मेरे दिल पर उके चुटटर लैगेट थे। मेरा तेह दिल कर्ता था की मम्मी के चट्टेरो पर मचान जाने के बीएस मम्मी के डोनो चटारो को कब जाउन।
जब भी माँ मेरा ख़बर लन्दन पजैमे मुझे देखती थी वो मेरी मेर देख कर बोलती है – हां बीटा कोई दिखेत है तो बाटो।
हमारे समय में शर्म से पानी की पानी हो और अपना ख्वाहिश – कुछ नहीं मम्मी मुझे कोई बात नहीं है।
और प्राथम मम्मी मेरी आँखों मुझे अनकेन दाल कर हला से मुस्कुरा दी थी थी। मुख्य यूनी मुस्करुर्हट के पहेच का राज़ नहीं जान पेआ एक दिन की बात है मेरी गारमियों की चुटियां चल रही थी। मुख्य दफ़र मुझे बेहोत जोर से भूक लागी टो मुख्य रसोई में कुछ ख़ान के लिए चले गए। ये कहानी आप देश कहानी डॉट नेट पाड़ है है।
हंस पर माइन दिखने की माँ ख़ान बनी हुई है और उड़ी गांव क्या मस्त लगी हुई है। Unki मोती बहुर निकलती गांद को देख हिते मेरा लुंड जाट से ख़ादा हो ग्या। और तोही मुझे केवल एक ही आया था मुझे एक विचार आया। मैने अपन पियामेम मेरे अपन लुंड दर्द से ख़ाँ कर लीया और माँ की चीज़ ही करेगी पाकी से पैक्ड लीया। मेरा लन्दन मम्मी के डोनो चटटरो के लिए मैं फंसा हुआ था। शायदा माँ को तुम सब मेसू सु हो हो होगा
पार वो मुझे कुछ भी बोली और मुग़़फे दे रहे बोली – क्या बीटा?
मुख्य – मम्मी मुझ भहो भूक लगी है।

[irp]
मम्मी – ओह हू मंगल राज बीटा को भूक लगी है, मुख्य अभी ख़ान हैं हू अपन बेते को।
अब मइने दििये अपी कमर हैरत से कर दी हुई थी और अपना लण्ड उके चटारो मुझे हिलेन लिया गया। माँ ने मुझ में कुछ भी कह ऐ मेरी म्यामती और भी बढी जीयी। इज़लीये अब मेरे जान भी मोका मिल्त करना मुख्य आइसे हाई मम्मी के चुटारो मैं लन्ड दाल दिता।
रात को मुझ ननि ने ए आ रे थी और मम्मी ही सथ इत थी थी। मुझ में ने कहा है कि, कुछ दिन बाद मैने अपना थामा मम्मी मेरि तार अपी गंगा करक इतनी है। फिर मैने बतोत हीमत करे पहल उनी सारे थोड़ी ऊपर करारी। और उन्ची चिकनी टैंगो समम फेरन लैग गया है। फ़िर मुख्य और हितम करवी उनी सरे उनी गंड तक वर उता दी।
अब मात्र समन मम्मी की गोर और मूलायम नंगे चटतार पहले तू मैने अन डोनो चट्टेरो पर भीड़ से पहले हैं। और फिर मैने अपन्ना एक है से यू यूनी गांद का छाता दीख। वो सैक मुझे बोहट हाय भुगतान लाग रिहा था। मण जाते हैं, तंग मुझे अपनी जिंद दाल लून को तंग कर देते हैं। पार मुख्य अभी भी कर स्काट था कियोकी मुख्य भी अभी बडा जोखिम नहीं लेना चाहता था था।
फिर मैने अपना एक है मम्मी की मोती जानगो दा दाल लीया चुट पर कफी लम्बे लम्बे बाल। मुख्य मम्मी की चुट पीर पहररेथा था। मेन मम्मी ने अभी तक कोई हरकत ना की थी। अब मैने अपनी एक अकेली माँ की चुट मुझे दाली। और दोसरे ने से अपना लुंड बहार निकल कर मुथ मार्ने लैग ग्या है। मेरी अनगली जो चुट मेरे थी वा कहो बहुत गरम हो रही थी। मनो मम्मी की चुट जस आगा लैग री हो
करीब 5 मिनट बादा हाय ही लण्ड ने अपना सारा पानी माँ को चट्टेरो के ऊपर निकल दीये। मेरे लण्ड के पानी से माँ की के दोो चट्टे के साथ पढ़ते हैं चूक। मुझ पर अब लोग क्या ग्या की अब क्या हो। मुझ में कुछ बात नहीं है और मुख्य चुप चाप सब कुछ आइसे ही तार करे अपनी जोग पार इतना गाया।
सुबा माँ ने मुझे मुझ से प्यार करते थे। मैने औता दर ग्या की मम्मी मेरे अब बहुत दोस्त हैं इज़लीये मुख्य सिन्हा और मेरे बाथरूम में गौस गय जब मुख्य बारात आ गया तो माँ माँ बहत सबजी के साथ थी थी। मुख्य मम्मी के पास कर बीते कार चाइने पाइन लग जाते हैं।
मम्मी – क्या बात बीटा आज बोत डर तक सोये।
मुख्य – पीटी हुई माँ बहुत कुछ बहुत कुछ मेरे दिल में है है।
मम्मी – कोई बात नहीं है, रात के खाने की जल्दी इतनी जय हो।  

ये केहे ही माँ मस्त होल ह्यू रसोई मेरे चाली जी एब मम्मी को देख मुझे मेरे लगी भी है कि मम्मी कल रात वो कंड से ख़फ़ी है। अनहोनी तॉगी मुझे भी कुछ भी नहीं और आज रात को भी जल्दी से प्यार करता हूं। मैने अब से आदमी मेरे सुच लीया था की आज रात को मम्मी को दर्द से चुड़ दलांगा।
रात मैने सब से पैहले के खाने के लिए लीया और बेडरूम में मुझे कर लीट गाया। और जो का नाटक करने वाला ग्या कुछ ही मुझे मेरा मम्मी पास कर लीट ग्याई है। मैं एक अकेली बात नहीं कर रहा था, जो एक अकेला था। एक घटन बाड़ मुख्य उथ और उसके की मम्मी और सारी सहेली की बिकली खुली थी रात रात में हुई है।
सच मुझे आज मां बहत ही सेक्सी लग गई थी मेन देख की और माँ की अपी तंग है तिकड़ी से कर राखी हैं। जिस्से मुख्य आसनी से उकि रातें को ऊपर कर शकुन। मैने जलदी से वेस हाय कीया मै रात रात अपर यू डी। जिस्से मेमन समने माँ की चुट और चुटतर डोनो एए गेये मैने जलदी से अपना की काल की ताड़म की की चुट के रूप में।

आज मुख्य हरीं रात ग्या क्योकी मम्मी की चुट पार एक बच्ची थी। माँ की प्रिये चिनी पाडी थीं मुख्य सच्चे के दिल हैं। मेन इटनी मुलम और नरम चीज वाली कुछ देखिये थी। मैने थोडा सा और ने आला किया तो ही मात्र इटान सॉफ्ट एक चाफडा सा आया है। जो मम्मी की चुट से लग गया था। वो भी कफी नरम था और मेरे आदमी यूसेज खेल का कार था था।
बहार खिड़की से मुझे थोडी थोडी रोशनी होती है थे। मुख्य मम्मी के चुट के पास ग्या और मम्मी की चुट को बडे गोर से डकार। मेरी चुट की मैने आज अगली बार देची था। यूसेम से एक माधोश करन वाली खुशू ए होती थी। जीससे गाने के मुख्य आप आप पर नियंत्रण नहीं कर दे रहे थे। मेन फ़िर माँ की चुट पार ही रक्षित होती है और साथ ही उन्ची चुट को मसले लग जाते हैं।
माँ किसी भी हरकत नहीं कर थी थी। वू चूप चाप लीटी हुई थी जस मेरी उसमट और बड़ ग्या। मेन सचा अब ते मेरे मुंह अपन लुंड दाल ही देना चैनी, इस्तली मुख्य जलती से अपना कप्पा उतार दीये। और पेहेले मैने अपन लुंड को मम्मी चौतारो पर लैग्या। जिस्मे मुझे मुझ सच्चे मुझे बोत मजा आ रहा था। फिर मैने अपन लुंड को मम्मी की गांड के चेड पर लग गया और जब अपना लन्ड को शुद्ध चड्ड पर रेगडेन लिया गया।
गाण्ड के ने मुझे भी भोहार जी थी मैने तभी देखते मम्मी की चुट मुझे से चिने पानी में निकल आए हैं। मैने हमसे पनी को है लैग्य और प्रयोग स्वाद किया तू वो बॉट हू नमकीन था। पार हमें पानी की ख़ुशबू से मुझ में पागल सा कर दिए था। मेरे दिमाग मुझे एक विचार है कि क्या कोई मुख्य पहल अपनी लन्दन माँ की चुट का पानी लगने लून है और फिर मुथ मारुन अपन लुंड को दर्द से चिंतन करे।
मेन आइसाई के लिए मैने अपन्ना लुंड मम्मी की चुट के साथ दिखने के लिए मेरे एक जॉर्डर की सैट लागा। मम्मी की चुट बहोत ही गरम तेरे फरमाइन अपन लन्दन मम्मी की चुट के साथ रग्ने शूर कर दिये। मेन दीक्षा मील लगी रागगने से मम्मी की चुट मेरे से और पानी निकल हैं। मुझ भी अब मैं कभी प्यार ग्या देखे ही देखे मैने अपना मम्मी की चुट मुझे का दला दीया। क्या बात का मुझ पाप से भी चाला है
मुख्य अपन लुंड को ऊपर निकल करने लग जाते हैं। कुछ ही मेरे मुझे लांड से पानी निकल वाला हो गया। मैने जाट से अपना लन्ड चट मुझे से बाहर निकला। और लुंड छोड़ निकलते ही मुझे पूरी बहोत सारी पानी पिचरकारी की सथ मम्मी की चुट परगीरा दीया। मुख्य बरी तारा से दर गया था। ये कहानी आप देश कहानी डॉट नेट पाड़ है है।
मेरी सैक मी गांड वेट ग्या, मेन सचा अब ते मुख्य मेन। मैने जल्दी से अपना कप्पा डेल और चुप चाप अपनी जोग पार इतना गा। और न जाने मेरे मैं कब आये मुख्य जब सुबूत उठे तो मम्मी घर की सफ़ाई कर रही थी। मुगे उथते ही थाइ ना चाये डी दि। मैने चुपके से मम्मी को देख रहे थे।
मम्मी – बीटा आज रात क्या है?
मुख्य – अची आयी माँ?
माँ मेरी पाजमी को दिखने वाले बाली – बीटा अब तू बूढ़े ग्या अबू रात को धोती के दाल कर सोया करे।
ये सुनेते हाय मुख्य बहोत ख़ुश हो ग्या क्यो मम्मी न कोई फिर मेरे कुछ कुछ नही। ताही दीदी ने मुझ मुबारक से एक धोखा निकल कर दिया। मेरा सारा दीन एसे हाई निकल गया और जब रावत हुई तो मेरी कल की बात थी। सब से पैहलने के लिए रात के खाने के लिए और सब से पहले मेरे कमरे में मेरे लिए ये आ गया है।

मुख्य आजाजान भुजकर पायजाम नही दला और न ही अंडरवियर। मेन अराज सरफ एक धोती दली जिस्मसे मेरे 8 इंच लन्ड बडे अराम से दिख दर था। मुख्य जो कि नाटक कर हैं और लासे मम्मी के होते हैं इंकार करते हैं।
कुछ ही मुझे मेरा कामरे में माँ भी ए जीआई है और मुख्य आकाश जीन कर अपनी ढोटी हैं ही हैं, मेरी तांदरी मम्मी को एट ही दिखे जाए। मेन sone ka natak kar raha tha mummy mere pass aayi मी lund kp has me pakad कर देखने लगी। लन्दन मम्मी के हैं मुझे आते ही एक बांध ख़ादा हो ग्या।
फर मम्मी दो मिनट तक मात्र लुंड को दबे और अपने देवता को धोती के और दाल कर बताते हैं। लाइट ऑफ कार को ही पास लेट गेय मेन कल की ताड़ माँ को एक साथ कैसे मिला।

[irp]

और फर किरिएक एक हजार बड मयूर मम्मी की तार्फ़ कारत ली ते मेरी मेँ अपना आप अपना दोस्त है। और मुख्य जगहें पूरी तरह नंगा हो जाए मेन दीक्षा की माँ ने आज भी कल की तार अपनी डोनो तांग खोली हुई है।
मुख्य उथ और मम्मी की रात को ऊपर करने वाली यूनी चुट को देखने लग गए। आज मम्मी की चुट मुझे से काल जिंदा माधोर करन वाली ख़ुश्से आ गई है थी।
मैने हिमट करवी यूनी डोनो तांगे खोले डी। और आज अपन मुहम ममी की चुट के साथ असली, अपना चुट चटने लग गए। मेरी जीज ही मम्मी की चुट पर लगी तभी मम्मी थोडी ही होती है पर मेरे मेन बात क्या किसी परवाह नहीं है और मुख्य चुटाने के लिए मुझे पता है।
करीब 15 मिनट की चुट चने के लिए बड मम्मी की चुट मेरे से काल की तार्ची चिंच पानी निकलाने लग गई। मेन अनकी चुट का सारा पानी अपी जीबी से चैट चैट कर सा कर दीया। और खाद सब पानी पी ग्या।
अब मेरा लन्दन फतने को हो रहा था। इश्लिये मैने अपन्ना लुंड मम्मी की चुट पार सेट की और खुर्द माँ को ऊपर लीट ग्या। मैने थोड सा जोर लैग्य और लुंड चट मे गुस्ता चाला गया। मुख्य मम्मी के स्तन को रात्रि के बहार से ही चुस होता था।
मेन दीक्षा की आई मम्मी थोडी थोडी हर रात कर हुई है पर मुझ कुखे नहीं है हैं। इज़लीये मुख्य भई अब जो जोर से उनी चुट को मोर्ने लैग ग्या।
मम्मी के मुह से हल्कली हल्कि सिस्कोरीया निकल थी थी। जईस मुख्य सूरज था और सथ है अब मम्मी के मुह से महाम भी बिना आओ शूरु हो ग्या थी।
अब मुझ्से और न ही रीका जा रहे थे मैने एक जॉर्डर ढेर मेरे और अपना लुंड का सब पान मुझे बताइये, हाय निकल दीया। मुख्य अब ठाक चुका था इस्तली मुख्य मम्मी के ऊपर ही लीट गाया।
मुझ्े अपैन फ़ीडबैक दीने के लिए कृपा कहानी को ‘जैसे’ जरूर करे, ताकी कहानियां का तु और देसी कहानी पर आप लिन यें हां चतुः राहे।
ना जेन मेरे कबाब नंद आइ और मैने मम्मी के ऊपर ही इतनी गा।
हम रात के लिए बच्चा हैं, हाय मम्मी को चोदने लग जाते हैं। और कुछ दिनो के लिए अब मामी ख़ुद मुझे लण्ड के वर अपूण चुट तुझे नजर थी। और मेरे साथ चुने जाने जाति थी।
आज की तारीख में मुझे मुख्य अपी पत्नी तेना और अपी माँ डोनो को एक ही सख्त चुनौती थी।

[irp]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. .