Click to Download this video!

मेरी बीवी की आशिकी Sexy Antarvasna Katha


0
1472

मेरी बीवी की आशिकी Sexy Antarvasna Katha

जल्दी उठ जाने के कारण मीरा की नींद पूरी नहीं हुई थी, इसलिए उसके जाते ही वह पुनः बिस्तर पर जा गिरी।
उसकी आंखों में नींद की खुमारी भरी थी, इसलिये बिस्तर के नर्म गद्दे पर लेटते ही उसे नींद आ गई। उसकी बगल में दोनों छोटे बच्चे सो रहे थे। बेख्याली में मीरा ने अपने छोटे बच्चे को खींचकर अपने सीने से चिपटा लिया। बाबू सिंह के साथ उसका ममेरा भाई कुशल पाल रहता था। कुशल पाल भी हंस भवन में सफाई कर्मी था। आज उसने तबियत खराब होने की एप्लीकेशन लगा कर आॅफिस से छुट्टी ले ली थी, इसलिये वह आज दिन चढ़ आने तक सो रहा था।
अचानक उसकी नींद टूटी, तो उसने देखा, कि उसकी भाभी मीरा अपने बिस्तर पर बेसुध होकर सो रही है। उसके सीने से आंचल हट जाने के कारण ब्लाउज के अंदर उसके खिले हुए पुष्ट उरोज मानो उसे चुनौती दे रहे थे।
उसका भाई बाबू सिंह घर में कहीं नज़र नहीं आ रहा था। कुशल पाल ने अनुमान लगा लिया था, कि वह अब तक आॅफिस जा चुका होगा। अचानक उसके होंठों पर कामुक मुस्कान उभर आयी। वह अपने बिस्तर से उठा और भाभी मीरा की बगल मंे आकर लेट गया। उसके हाथ मीरा के गुदाज जिस्म की पुष्ट गोलाइयों को टटोलने लगे।
मीरा को अपने जिस्म के अंगों में किसी के स्पर्श का अहसास हुआ, तो उसकी आंखें खुल गईं।
उसने देखा, कि कुशल पाल उसकी बगल में लेटा, उसके संवदेनशील अंगों के साथ कामुक छेड़छाड़ कर रहा था। इस पर वह बोली, ‘‘मेरे शैतान देवर जी, मुझे सोने दो।’’ वह कसमसाते हुए बोली, ‘‘क्यों परेशान कर रहे हो?’’ उसके हाथों को अपने अंगों से परे करते हुए बोली, ‘‘मुझे अभी छूने की जरूरत नहीं है।’’ वह अलसाई हुई बोली, ‘‘अभी मैं थोड़ी देर सोना चाहती हूं।’’
‘‘मेरी नींद हराम करके तुम सोना चाहती हो?’’ कुशल पाल कामुक निगाहों से मीरा के उरोजों को घूरते हुए बोला, ‘‘मैं भी देखता हूं, तुम कैसे सोती हो?’’ वह उसकी गोरी गदरायी जांघों पर हाथ फिराता हुआ बोला, ‘‘तुम्हारे लिए मैंने आज आॅफिस से छुट्टी ली है और तुम नखरे दिखा रही हो?’’ वह मीरा के बदन से लिपटते हुए बोला, ‘‘एक बार तुम मेरी बाहों में समा जाओ, फिर देखना तुम्हारी नींद कैसे काफूर होती है।’’
‘‘तुम मर्दों को न जरा भी सब्र नहीं होता।’’ विशेष अंदाज में आंखें मटकाते हुए बोली मीरा, ‘‘मौका मिला नहीं, कि बिल्ली की तरह मलाई चाटने आ जाते हो।’’ वह करवट बदल कर सोने की चेष्टा करते हुए बोली, ‘‘चलो दूर हटो, इस वक्त मुझे बहुत जोरांे की नींद आ रही है।’’
लेकिन कुशल पाल ने मीरा की बात को अनसुना करते हुये उसके तन से एक-एक कर कपड़े हटाने शुरू कर दिये। फिर देखते ही देखते उसने मीरा को सिर से लेकर पांव तक पूर्ण निर्वस्त्र कर डाला। अब मीरा का संगमरमरी व तराशा हुआ जिस्म एकदम जन्मजात अवस्था में कुशल पाल के समक्ष था।

यह कहानी आप ‘मस्तराम की कहानी डाॅट काॅम’ वेबसाइट पर पढ़ रहे हैं…
मीरा के निर्वस्त्र चिकने तन का दीदार होते ही कुशल पाल के तन में आग भरने लगी। पूरा बदन उत्तेजना के मारे ऐंठने लगा। कुशल पाल मीरा के गोरे उजले कबूतरों को अपने मुंह से पुचकारने लगा। कुशल पाल के मुलायम जीभ का सुखद स्पर्श पाकर मीरा की नींद एकदम से उचट गई। प्यार की मीठी आंच उसके तन-बदन में बेतहाशा सुलग उठी थी।
अब मीरा को खुद पर काबू पाना मुश्किल हो गया था। वह अपना घुटना कुशल पाल के जांघों से रगड़ने लगी। यह देख मन ही मन मुस्करा पड़ा कुशल पाल। वह औरत के नस-नस से अच्छी तरह परिचित था।
वह समझ गया, कि मीरा कामना के रथ पर सवार होकर प्यार के झूले में झूलने के लिये तड़प रही है। खुद उसका भी मन मीरा के जिस्म को अपनी बाहों में भरकर उसके पोर-पोर को चटखाने के लिये बेचैन हो रहा था।
लेकिन वह आज मीरा की देह रौंदने से पहले उसे इस कदर बेचैन कर देना चाहता था, कि आज मीरा खुद पहल करने के लिये बेताब हो जाये। कुशल पाल अपनी उत्तेजक हरकतों से मीरा की सुप्त कामनाओं को भड़काता रहा। वह उसके संवेदशनशील अंगों को जहां-तहां सहलाते, चूमते व मौखिक स्पर्श देकर उत्तेजित करता रहा।
आखिरकार जब मीरा के सब्र का बांध टूट गया, तब वह कुशल पाल के उत्तेजित खास ‘वस्तू’ को प्यार से सलाहने और पुचकारने लगी। नारी के कोमल स्पर्श को महसूस करते ही कुशल पाल के तन-बदन में चींटियां-सी रेंगने लगी। उसने जल्दी से अपने तन के बांकी कपड़े उतार फेंके और कामना के घोड़े के लगाम को हल्की-सी जुम्बिश देकर मैदान-ए-जंग में कूद पड़ा।
जैसे ही मीरा ने कुशल पाल के जोशीले ‘शैतान’ की गर्माहट को अपने तन के अंदर महसूस किया, वह किसी अमर बेल की लता की भांति उसके सीने से लिपट गई। उसने दोनों हाथों से कुशल पाल की पीठ को मजबूती से जकड़ लिया। मानो वह उसे अपनी पूर्ण देह में समा लेना चाहती हो।
मीरा के प्यार करने का आक्रामक अंदाज देखकर कुशल पाल के होंठों पर मुस्कुराहट नृत्य करने लगी। धीरे-धीरे वह अपने प्यार करने की रफ्तार बढ़ाने लगा। मीरा भी मस्ती के खेल में उससे पीछे कहां रहने वाली थी, अतः उसने भी अपनी कमर को मस्ती के आलम में जुम्बिश देना शुरू कर दिया।
प्यार का यह खेल काफी देर तक चलता रहा। दोनों इस खेल को ज्यादा से ज्यादा देर तक खींचना चाहते थे। लम्बी चढ़ाई के बाद जब कुशल पाल का जिस्म पसीने-पसीने हो गया, तब उसने मीरा के प्यासे होंठों का चुम्बन लेकर शरारती अंदाज में पूछा, ‘‘क्या विचार है मेरी जान? मैं तो आनंद के सागर में डूबने ही वाला हंू। अगर तुम कहो तो सरपट रेस लगा दूं?’’
‘‘मैं भी मंजिल के करीब पहुंचने ही वाली हूं।’’ वह मदहोशी के आलम मंे चूर होकर बोली, ‘‘ओह! जानू, बस ऐसे ही प्यार करते रहो, हाय! बहुत मजा आ रहा है।’’ अपनी बात खत्म करते ही मीरा के मंुह से कामुक सीत्कारें निकलने लगीं।
मीरा के होंठों से निकलती कामुक सीत्कारों ने कुशल पाल को प्यार करने की रफ्तार तेज करने पर मजबूर कर दिया। प्यार की अनंत उंचाइयों पर पहुंच कर एकाएक कुशल पाल की आंखें मंुदने लगी। उसे ऐसा लगा, जैसे वह खुले आसमान में उड़ने लगा हो।

ठीक यही हाल पसीने-पसीने हो चुकी मीरा का भी हुआ। मंजिल के करीब पहुंच कर वह चरम आनंद के सागर में गोते लगाने लगी थी। उत्तेजना के अतिरेक में उसने अपने ऊपर झुके कुशल पाल के जिस्म को पूरी ताकत से भींच लिया। कुशल पाल ने भी आवेग में मीरा के गुदाज जिस्म को पूरी ताकत से जकड़ कर उसके सेब के समान गालों को जोर से काट खाया।

चरम आनंद की प्राप्ति होने के बाद दोनों निढाल होकर हांफने लगे। मीरा को कुशल पाल ने वो जिस्मानी सुख दिया था, जो उसका पति बाबू सिंह नहीं दे पाता था। वह खुश व संतुष्टि भरी नजरों से अपने पे्रमी कुशल पाल को देख रही थी। फिर वह अपने कपड़े समेटती हुई बिस्तर पर से उठी और बाथरूम की ओर बढ़ गई।
फ्रेश होने के बाद वह वापस कमरे में लौटी, तो उसने देखा कि तब भी कुशल पाल निर्वस्त्रावस्था में मस्ती में आंखें मूंदे बिस्तर पर ही पड़ा था। तब मीरा बोली, ‘‘ओहो जल्दी अपने कपड़े पहन लो।’’ वह बच्चों की ओर इशारा करती हुई बोली, ‘‘बच्चे जगने वाले हैं।’’
मीरा की बात सुनकर कुशल पाल उसकी ओर देखकर मुस्कुराया। फिर कपडे़ पहन कर अपने बिस्तर पर जाकर दोबारा सो गया।
बाबू सिंह, पुत्रा बनी सिंह उत्तर-प्रदेश के अलीगढ़ जिला के अंर्तगत एक छोटे से गांव एकरी का रहने वाला था। वह पांच सालों से यहां अपने परिवार के साथ रहता था। उसका मौसेरा भाई कुशल पाल निवासी महागौरा बेरोजगार था।
मौसा के बार-बार कहने पर बाबू सिंह ने उसे गांव से बुला कर अपने घर में रख लिया। कुशल पाल की उम्र बीस साल थी। बाबू सिंह ने प्रयासों से उसकी नौकरी हंस भवन में लगा दी। बाबू सिंह शराब पीने का आदी था। दो बच्चों के बाप बाबू सिंह को बीवी से ज्यादा ‘अंगूर की बेटी’(शराब) से प्यार था।
जबकि उसकी बीवी मीरा कामुक स्वाभव की खूबसूरत औरत थी। दो बच्चे होने के बाद बाबू सिंह ने अब उसकी उपेक्षा करनी शुरू की, तो वह अपनी अतृप्त वासना की आग को बुझाने के लिये तड़पने लगी।
बाबू सिंह के द्वारा बुलाये जाने पर उसका ममेरा भाई कुशल पाल उसके घर में आकर रहने लगा। अपनी अतृप्त कामना को बुझाने के लिये मीरा ने जानबूझ कर कुशल पाल को अपने पुष्ट गोलाइयों के दर्शन कराना शुरू कर दिये। भाभी के गदराये व खिले अंगों के गुप्त दर्शन मात्रा से ही कुशल पाल बुरी तरह उत्तेजित हो उठता था।
अलबत्ता वह भाभी की नजरें बचाकर उसके वस्त्रों के भीतर छिपे अंगों को अपने जेहन में निर्वस्त्रा रूप में महसूस कर उसे पाने की मन ही मन कल्पना करता रहता था। उधर मीरा जानबूझ कर कुशल पाल की भावनाओं को भड़काने का कोई भी मौका नहीं छोड़ती थी।
एक दिन जब बाबू सिंह काम पर गया था और उसके बच्चे सो रहे थे। मीरा नहा कर आई और कुशल पाल से अपने ऊपरी बदन के आंतरिक वस्त्रा का हुक लगाने के लियेे कहा। भाभी की बात सुनकर कुशल पाल के बदन में वासना का करंट-सा दौड़ गया। उसे लगा कि भाभी भी वही चाहती है, जो वह चाहता है। यानी दोनों की एक-दूसरे के जिस्म से जी भरकर खेलना चाहते थे।
फिर कुशल पाल ने भाभी के मन की बात टटोलनी चाहिए और उसके करीब जाकर उसके सख्त उभारों को ललचाई नजरों से घूरते हुए बोला, के लिये पूछा, ‘‘भाभी, तुम इन्हें पिंजरे में कैद क्यों रखती हो?’’

‘‘जब घर में मेरे बदन की सुध लेने वाला कोई है नहीं, तो ऐसे में मेरे ये दो मासूम बेचारे क्या करेंगे?’’ वह हताश भरे स्वर में बोली, ‘‘किसी को इनकी चिंता ही नहीं है, तो मैं क्या करूं?’’ वह जानबूझ कर स्वयं ही अपना एक हाथ अपने उरोजों पर ले जाते हुए बोली, ‘‘काश! इनकी कद्र करने वाला कोई होता।’’
‘‘भाभी तुम एक बार इशारा तो करो, मैं इन्हें इतना प्यार करूंगा, कि तुम भी याद करोगी।’’ कुशल पाल उसकी आंखों में आंखें डालकर बोला।
‘‘नेकी और पूछ पूछ।’’ मुस्करा कर हौले से बोली मीरा, ‘‘मेरी तरफ से तुम्हें पूरी छूट है।’’
मीरा की बात सुनकर कुशल पाल को लगा जैसे वह खुली आंखों से कोई सपना देख रहा हो। उसने मीरा की आंखों में झांका, तो वहां उसे वासना का अथाह सागर लहराता दिखाई पड़ा।


भाभी की मौन स्वीकृति पाकर कुशल पाल के बदन में अंगारे भरने लगे। उसने जल्दी से मीरा को निर्वस्त्रा कर डाला और उसकी देह का जमकर लुत्फ उठाया। मीरा ने भी जोशीले कुशल पाल की बांहों में खुलकर मजा लिया।
मीरा, कुशल पाल के प्यार करने के आक्रामक अंदाज से बहुत खुश थी। उसे ऐसा लग रहा था, जैसे वह प्यार के झूले में सवार होकर आसमान में उड़ रही हो। दोनों काफी देर तक एक-दूसरे की बांहों में कैद होकर प्यार की गर्माहट का मजा लूटते रहे। प्यार की मंजिल पर पहुंच कर मीरा ने पूरी ताकत से कुशल पाल को अपनी बांहों में भींच लिया।
उस दिन मीरा को कुशल पाल की बाहों में जो अभूतपूर्व सुख मिला, वह उसे अपने पति से कभी नहीं मिला था। इसके बाद तो दोनों को जब भी मौका मिलता, दोनों प्यार के इस वर्जित फल का आनंद लूट लेते थे।
बाबू सिंह ने जब देखा, कि उसकी बीवी मीरा उसके ममेरे भाई कुशल पाल का कुछ ज्यादा ही ध्यान रखने लगी है, तो उसने मन ही मन महसूस किया, कि दाल में जरूर कुछ काला है। आजकल मीरा के साथ प्यार के पलों के दौरान उसे वह गर्मजोशी भी नहीं दिखाती थी, जो वह पहले महसूस करता था।

अतः शक के आधार पर अब उसने मीरा व कुशल पाल पर गुप्त रूप से निगरानी रखनी शुरू कर दी और एक दिन उसका शक पूर्ण यकीन में बदल गया था।
उस रोज वह घर से काम पर जाने के लिये निकला था, मगर वह आॅफिस नहीं गया। दोपहर में वह अचानक घर लौट आया, तो देखा उसका कमरा अंदर से बंद था। उसने दरवाजे पर दस्तक दी, तो काफी देर दस्तक देने के बाद मीरा ने दरवाजा खोला।
‘‘दरवाजा खोलने में इतनी देर क्यों लगा दी?’’ वह बीवी के चेहरे के बदले हुए हाव-भाव को पढ़ने की कोशिश करता हुआ बोला, ‘‘आखिर ऐसे कौन से काम में व्यस्त थीं तुम?’’
फिर मीरा के जवाब की प्रतीक्ष किए बिना ही वह धड़धड़ाते हुये कमरे के अंदर प्रवेश कर गया। उसने देखा अंदर कमरे में कुशल पाल नंग-धड़ंग अवस्था में लेटा हुआ था। बाबू सिंह को अचानक सामने देखकर उसके चेहरे का रंग उड़ गया। कुशल पाल और मीरा को रंगे हाथों पकड़ने के बाद बाबू सिंह के तन-बदन में आग लग गई।
उसने कुशल पाल को घर से निकाल दिया और मीरा की जी भरकर पिटाई की। मीरा ने बाबू सिंह के पैर पकड़ कर माफी मांगी। मीरा के काफी देर गिड़गिड़ानेे के बाद बाबू सिंह दांत पीसता हुआ बोला, ‘‘आज के बाद कभी दोबारा ऐसी गलती की, तो जान से ही मार डालूंगा समझी।’’
बाबू सिंह ने मीरा को माफ तो कर दिया था, मगर अब वह सर्तक रहने लगा था। उसे अपने परिवार की इज्जत नीलाम होने का भय था, अतः उसने सोचा कि अगर वह यहां से अपना कमरा बदल ले, तो उसका ममेरा भाई कुशल पाल चाहकर भी मीरा से नहीं मिल सकेगा और वह अपनी चिंता से भी निजात पा लेगा।
यह विचार आते ही बाबू सिंह ने कोटला मुबारकपुर का कमरा छोड़ कर पिलंजी गांव में एक कमरा किराये पर ले लिया। उधर बाबू सिंह के द्वारा घर से निकाले जाने के बाद कुशल पाल अपने बहन-बहनोई के घर सोनिया विहार में रहने लगा।
कुशल पाल काफी समय से मीरा से नहीं मिल पाने के कारण वासना की आग में जल रहा था। वह उसे अपनी बांहों में रौंदने के लिए मचला जा रहा था।
जब उससे अपनी बेकरारी बर्दाश्त नहीं हुई, तो वह मीरा से मिलने पहुंच गया। दरअसल कुशल पाल को जानकारी थी, कि मीरा कोठियों में काम करने जाती है।
वह मीरा से मिला और बोला, ‘‘मेरी जानेमन मीरा।’’ वह ठंडी आंह भरता हुआ बोला, ‘‘तुम्हारे बिना तो लगता है, मैं मर ही जाऊंगा।’’ वह कामुक नजरों से मीरा के गदराये जिस्म को देखता हुआ बोला, ‘‘लगता है मेरे बेकाबू ‘शैतान’ को तुम्हारी देह के साथ शैतानी करने की आदत लग चुकी है।’’

मीरा भी बेताब दिल से बोली, ‘‘मैं भी तुम्हारी शैतानी अपने जिस्म में बर्दाश्त करने के लिए मरी जा रही हूं।’’ फिर बुरा-सा मंुह बनाते हुए बोली, ‘‘मेरा पति का बदन तो फुस हुए गुब्बारे जैसा है। वह मुझे छूता है, तो लगता है, जैसे कोई नादान बच्चा शैतानी कर रहा है।’’ वह उसके करीब आकर बोली, ‘‘मगर जब तुम शैतानी करते हो, तो मेरा बदन भी शैतानी करने के लिए मचल उठता है।’’
‘‘ये बात है तो फिर चलो मेरे साथ।’’ वह उसका हाथ पकड़ कर बोला, ‘‘आज हम दोनों अपनी प्यास बुझायेंगे।’’
‘‘मगर कहां ले जा रहो हो?’’ मीरा थोड़ा हैरत से बोली।
‘‘मेरे दोस्त के घर।’’ कुशल पाल ने बताया, ‘‘उसका घर खाली है। मैंने उससे बात करके मामला सेट कर लिया है।’’ वह मदहोशी भरे अंदाज में बोला, ‘‘आज तो तुम्हें जी भरकर…समझ गई?’’
‘‘हटो बेशर्म कहीं के।’’ मुस्करा कर इतना ही बोली मीरा।
फिर कामना की मारी मीरा ने पति को दिया वचन भूला कर अपने प्रेमी के संग रासलीला रचाने उसके दोस्त के घर पहुंच गई। कुशल पाल महिनों के बाद मीरा से मिला था। उसने मीरा की सारी कसर एक बार में निकाल दी। जिस्मों की रगड़ा-रगड़ी में उसने मीरा को इस तरह थका दिया, कि वह कुशल पाल की पकड़ से छूटने के लिये छटपटा उठी।
मगर कुशल पाल इतनी असानी से उसे कहां छोड़ने वाला था? उस दिन चार बार मीरा के जिस्म पर उसने अपनी भड़ास निकाला। मीरा का एक-एक अंग चटका कर रख दिया था उसने।
मीरा भी मुस्करा कर नाराजगी भरे अंदाज में बोली, ‘‘इतने दिन क्या मेरी जुदाई में घी पकवान खा रहे थे? पागल सांड की तरह बावले हो गए थे। पूरी देह का भरता बना दिया तुमने।’’ वह मजाकिया भरे स्वर में बोली, ‘‘लगता है पहले से ही सोच रखा था, कि अपने बदन को घी-पकवान खा-खाकर कठोर कर लूंगा और मेरी देह की धज्जियां…।’’ इतना कहकर मुस्कराने लगी मीरा।
‘‘नाराज क्यों हो रही हो जानेमन?’’ उसके उरोजों को एकाएक मसल कर बोला कुशल पाल, ‘‘इतनी खूबसूरत और हुस्न से मालामाल प्रेमिका से इतने दिन दूर था, तो उसकी कीमत तो एक बार में ही वसूल करूंगा न?’’ फिर उसकी आंखों मंे आंखें डाल कर बोला, ‘‘वैसे सच बताना, तुम्हें भी खूब मजा आया न?’’
‘‘हर प्यासी औरत तुम जैसे मर्द की ही कल्पना सपनों में करती है मेरे जानू।’’ उससे लिपट कर बोली मीरा, ‘‘जो बिस्तर पर अपनी घरवाली व प्रेमिका का जिस्म तरोड़-मरोड़ कर रख दे।’’ वह उसकी ओर देखकर बोली, ‘‘मेरा तो एक-एक अंग ऐसे तृप्त हो गया है, जैसे अब इन्हें साल भर तक किसी मर्द की प्यास न लगे।’’
‘‘ऐसा मत कहो मेरी जान।’’ शरारतपूर्ण अंदाज में बोला कुशल पाल, ‘‘इन्हें प्यास नहीं लगी, तो मैं प्यासा मर जाऊंगा।’’ वह अपने खास ‘वस्तू’ की ओर इशारा करते हुए बोला, ‘‘फिर मेरे शैतान का क्या होगा?’’ वह मीरा के गुलाबी होंठों को चूमकर बोला, ‘‘ये तो तुम्हारी ‘देह’ के साथ शैतानी करने का आदी हो चुका है।’’

और फिर दोनों साथ में खिलखिला कर हंसने लगे। फिर बाद में मीरा ने कुशल पाल को बताया कि वे लोग आजकल पिलंजी गांव में रह रहे हैं। मीरा से उसके घर का पता पूछ कर कुशल पाल ने अपनी छोटी डायरी में नोट कर लिया।
देवर कुशल पाल के संग रंगरलियां मनाने के बाद मीरा खुशी-खुशी अपने घर लौट गई। कुशल पाल ने अब बाबू सिंह के घर का पता जानने के बाद उसकी अनुपस्थिति में वहां भी आना शुरू कर दिया। बच्चों के मुंह से यह बात बाबू सिंह को पता लग गई। कुशल पाल की बढ़ती हिम्मत देखकर बाबू सिंह का खून खौल उठा।
एक दिन वह कुशल पाल को धमकी देने उसके बहनोई के घर सोनिया विहार जा पहुंचा। कुशल पाल को देखते ही बाबू सिंह गुस्से में भरकर चीखा, ‘‘अगर तुमने मीरा से आइंदा मिलने की कोशिश की तो तुझे काट कर तुम्हारा मांस चील कौवों को खिला दूंगा।’’
बाबू सिंह के डर से कुशल पाल अंदर कमरे में जाकर छिप गया। उसके बहनोई के द्वारा बीच बचाव करने से किसी तरह मामला शांत हुआ। बाबू सिंह उसे बुरा भला कहकर पैर पटकता हुआ अपने घर लौट आया।
बाबू सिंह की धमकी से बेतहाशा घबरा गया कुशल पाल। उसे अब अपनी जान की चिंता सताने लगी। मगर वह अपनी प्रेमिका मीरा से भी दूर नहीं रह सकता था। अतः उसने बाबू सिंह को ही जान से खत्म कर देने की मन ही मन में ठान ली और योजना बनाने लगा।
बाबू सिंह का काम तमाम करने के लिये कुशल पाल ने अपने जिगरी दोस्त दिनेश पुत्रा रणवीर को बहन की शादी का समान खरीदने के बहाने गांव से दिल्ली बुला लिया। कुशल पाल ने लालच देकर दिनेश को बाबू सिंह की हत्या की योजना में शामिल होने के लिये राजी कर लिया।
एक दिन दिनेश ने बाबू सिंह को बहाने से अपने पास बुलाया और कहा ‘‘कुशल पाल अपनी गलती के लिये उससे माफी मांगना चाहता है। उसे माफ कर दो।’’
बाबू सिंह दिल का साफ आदमी था। उसने समझा कुशल पाल को शायद वाकई अपनी गलती का पश्चाताप हो रहा होगा। अतः उसने कुशल पाल और दिनेश दोनों को अपने घर में बुला लिया। बाबू सिंह के बुलाने पर रात को कुशल पाल, दिनेश के साथ बाबू सिंह के पिलंजी स्थित किराये के कमरे में पहुंचा।
दोबारा दोस्ती होने की खुशी का दिखावा करते हुये कुशल पाल ने अपनी पे्रमिका मीरा के पति बाबू सिंह को शराब पीने की दावत दी। शराब बाबू सिंह की सबसे बड़ी कमजोरी थी। शराब की दावत मिलने पर बाबू सिंह खतरा नहीं भंाप सका। वह बिना कुछ सोचे-समझे कुशल पाल और दिनेश के साथ शराब पीने के लिये घर से बाहर निकल गया।
वहां से तीनों एक साथ शराब के ठेके पर पहंुचे। कुशल पाल ने शराब की बोतलें खरीदी। तीनों ने एक पार्क में जाकर नमकीन के साथ शराब पीना शुरू किया। बोतल के खत्म होते ही बाबू सिंह के ऊपर नशा हावी होने लगा। कुशल पाल दोबारा ठेके पर पहंुचा और शराब की कुछ बोतलें खरीद लाया। दिनेश लड़खड़ाते बाबू सिंह को सहारा देकर पास के एक कमरे में ले गया।
यह कमरा कुशल पाल ने उसी दिन अपने लिये किराये पर लिया था। तीनों वहां बैठ गये। नमकीन और शराब की बोतलें बीच में रख दी गईं। शराब का दौर शुरू हुआ, तो दोनों ने खुद कम पी, मगर बाबू सिंह को इतना अधिक पिला दिया कि उसे अपना होश नहीं रहा। बाबू सिंह बेसुध होकर फर्श पर लेट गया।

कुशल पाल ने बाबू सिंह को शराब के नशे में बेहोश देखकर दिनेश को आंखों ही आंखों में उसका काम तमाम करने का इशारा किया। दिनेश ने उसके इशारे का मतलब समझ कर बाबू सिंह को दबोच लिया। तभी कुशल पाल ने अपने रूमाल का फंदा बनाकर उसका गला घोंट दिया।
बाबू सिंह के मरने के बाद कुशल पाल ने एक चादर में उसके लाश की गठरी बनाई और एक टैक्सी को बुलाकर लाश को ठिकाने लगाने निकल पडे़।
तड़के न्यू फ्रैंडस काॅलोनी थाने के दो कांस्टेबल राजीव मिश्रा और खान ड्यूटी पर थे। उन्होंने एक रेडियो टैक्सी को बदरपुर की ओर जाते देखा, तो उसे हाथ देकर रूकने का इशारा किया। टैक्सी रूकते ही कुशल पाल ने एक सिपाही को पचास रूपये का नोट बढ़ाया। रूपये का आॅफर मिलते ही दोनों सिपाही को शक हो गया।
जब पचास रुपये सिपाही ने नहीं लिये, तब कुशल पाल ने जेब से पांच सौ का नोट निकाल कर उनकी ओर बढ़ाया। मगर दोनों सिपाही टैक्सी की तलाशी लेने लगे। जब उन्होंने गठरी खोली, तो उसके अंदर एक लाश देखकर कार को सड़क के एक साइड में कर अपने अधिकारियों को इस बारे में फोन कर दिया।
न्यू फ्रैंडस काॅलोनी के दो जाबांज पुलिस कर्मियों की मुस्तैदी के कारण लाश को ठिकाने लगाने के पहले ही आरोपीजन पकड़ लिये गये।
दक्षिण पूर्वी जिले के अति उपायुक्त अजय चैधरी ने दोनों पुलिसकर्मियों को बारी से पहले तरक्की देने की घोषणा कर दी है।
कहानी लेखक की कल्पना मात्र पर आधारित है व इस कहानी का किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है। अगर ऐसा होता है तो यह केवल संयोग मात्र हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. .